यमुना नदी

  • Updated: May 02 2024 08:32 PM
यमुना नदी

यमुना नदी

भारत में बहने वाली यमुना नदी, गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है। इसकी यात्रा यमुनोत्री से शुरू होती है और प्रयाग (प्रयागराज) में गंगा में मिल जाती है। इसकी प्रमुख सहायक नदियों में चंबल, सेंगर, छोटी सिंधु, बेतवा और केन उल्लेखनीय हैं। दिल्ली और आगरा के अलावा, यमुना के किनारे के उल्लेखनीय शहरों में इटावा, कालपी, हमीरपुर और प्रयाग शामिल हैं। प्रयाग में, यमुना खुद को एक विकराल नदी के रूप में प्रस्तुत करती है, जो प्रसिद्ध ऐतिहासिक किले के नीचे गंगा से मिलती है। यमुना का सांस्कृतिक महत्व ब्रज में गहराई से निहित है।

उद्गम

यमुना यमुनोत्री से निकलती है और गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदी के रूप में प्रतिष्ठित है। इसका स्रोत बंदरपुच्छ से लगभग 7 से 8 मील उत्तर-पश्चिम में 6200 मीटर की ऊंचाई पर कालिंद पर्वत में स्थित है। यमुना, जिसे कलिंदजा या कालिंदी भी कहा जाता है, 20,731 फीट की ऊंचाई पर यमुनोत्तरी पर्वत से निकलती है। भारत के कोने-कोने से श्रद्धालु इस पवित्र स्थल की यात्रा के लिए प्रतिवर्ष तीर्थयात्रा करते हैं। यमुनोत्री उत्तराखंड के चार धाम में से एक है।

पौराणिक महत्व

यमुना को भुवनभास्कर सूर्य की बेटी, यम (मृत्यु के देवता) की बहन और भगवान श्री कृष्ण की पत्नी माना जाता है। ब्रज संस्कृति में, वह क्षेत्र की मातृत्व का प्रतीक है। ब्रह्म पुराण में यमुना के आध्यात्मिक सार को सृष्टि की नींव के रूप में वर्णित किया गया है, जिसे सच्चिदानंद स्वरूप के रूप में जाना जाता है, जिसे उपनिषदों ने ब्रह्मा के रूप में गाया है। गौड़ीय विद्वान श्री रूप गोस्वामी ने यमुना को चिदानन्दमयी कहा है। गर्ग संहिता में यमुना के पांच नाम सूचीबद्ध हैं: बोर्ड, विधि, कविता, भजन और हजार।

सांस्कृतिक महत्व

गंगा के साथ-साथ यमुना भी भारतीय संस्कृति में एक पवित्र और प्राचीन दर्जा रखती है। यमुना और गंगा नदियों का संगम प्राचीन आर्य संस्कृति के पोषण में सहायक रहा है। यमुना ब्रजमंडल का अभिन्न अंग है, जो ब्रज संस्कृति का सार प्रस्तुत करती है, इसकी परंपराओं के लिए प्रेरणा प्रदान करती है और धार्मिक भावनाओं का पोषण करती है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, यमुना की स्तुति एक हजार नामों से की जाती है, जिनका उनके भक्त प्रतिदिन पाठ करते हैं। ब्रज भाषा के कवियों, विशेष रूप से वल्लभ संप्रदाय के कवियों ने, गिरिराज गोवर्धन के प्रति अपनी श्रद्धा के समान ही यमुना के प्रति गहन भक्ति व्यक्त की है। यमुना के प्रति काव्यात्मक श्रद्धांजलि ब्रजभाषा भक्ति काव्य की एक प्रमुख विशेषता है, जो यमुना और ब्रज संस्कृति के बीच गहरे संबंध को दर्शाती है।

आज की तिथि ›

🌖 आषाढ़ कृष्णा तृतीया

रानी दुर्गावती पुण्यतिथि

🔱 सोमवार, 24 जून 2024
विक्रम संवत् 2081