गणेश मंत्र

  • Updated: Sep 16 2023 12:47 PM
गणेश मंत्र

|| गणेश मंत्र ||

गजाननं भूत गणादि सेवितं,
कपित्थ जम्बू फल चारू भक्षणम्
उमासुतं शोक विनाशकारकम्,
नमामि विघ्नेश्वर पाद पंकजम्

 

हे गज के मुख वाले श्री गणेश, आप भूतों और गणों के स्वामी हैं और ये सभी आपकी सेवा करते हैं | आप कपिथ (कैथा) और जम्बू (जामुन) का भक्षण करते हैं अर्थात दोनों ही फल आपको प्रिय हैं |

आप उमा के सुत हैं यानि आप माता पार्वती के पुत्र हैं आप शोक और दुखों का नाश करने वाले हैं | हे विघ्नों को हरने वाले ईश्वर आपके कमल के समान चरणों को बार बार प्रणाम करते हैं |

 

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

 

हे | आप वक्रतुण्ड अर्थात घुमावदार सूंड वाले, महाकाय अर्थात विशाल शरीर वाले, करोड़ सूर्य के समान महान प्रतिभाशाली और और जो अपने ज्ञान के प्रकाश से सभी दिशाओं को प्रकाशवान करते हैं |

हे विघ्नहरता, मेरे प्रभु आप हमेशा मेरे सारे कार्यों को बिना विघ्न के पूरे करें (करने की कृपा करें) और अपना आशीर्वाद दे |

आज की तिथि ›

🌔 आषाढ़ शुक्ला द्वादशी

प्रदोष व्रत, अधर पना (जगन्नाथ रथ यात्रा)

📿 गुरुवार, 18 जुलाई 2024
विक्रम संवत् 2081